Hindi Shayari शायरी: Best Love, Sad, Romantic, Attitude Shayari

Shero Shayari

🅰🅰🅽🅺🅷🅴🅽...शेरो शायरी हिंदी

Pani Se Bhari Aankhen Lekar wo Mujhe ghoorta Hi Raha,
Aaine Mein Khada shaks Pareshan bahut tha…
पानी से भरी आँखें लेकर वो मुझे घूरता ही रहा,
आईने में खड़ा शख्स परेशां बहुत था…

shayari
Shero Shayari

Sab se kHeti ho Ki Tera Intezar Nahin,
per Har Shaam sochti Hoon ki tu ab tak Aaya Kyon Nahin. 💔
सब से कहती हूं कि तेरा इंतज़ार नहीं,
पर हर शाम सोचती हूँ की तू अब तक आया क्यों नहीं.


Aaj Ek Khwab Ne Mujhse Pucha,
pura Karoge ya Toot Jau 💔
आज एक ख्वाब ने मुझसे पूछा,
पूरा करोगे या टूट जाऊ.




Samander Bebasi apni Kisi Se keh Nahin Sakta,
hazaron mil Tak Faila Hai Fir Bhi Beh Nahin Sakta.
समंदर बेबसी अपनी किसी से कह नहीं सकता,
हज़ारों मील तक फैला है फिर भी बह नहीं सकता.


Pyar Bhari Shayari

🅼🆄🆂🅺🆄🆁🅰🅽🅰…प्यार भरी शायरी

Meri duaon ka Mukammal Hona,
aur Tera Muskurana ek hi baat hai💖
मेरी दुआओं का मुकम्मल होना,
और तेरा मुस्कुराना एक ही बात है.

shayari
Pyar Bhari Shayari

Puchte Hain Mujhse ki shayari likhate Ho Kyon,
lagta hai Jaise Aaina dekha Nahin Kabhi💖
पूछते हैं मुझसे की शायरी लिखते हो क्यों,
लगता है जैसे आइना देखा नहीं कभी


Mujhe khushnaseeb Hai Mere likhe Hue yeh lafz,
jinko Kuchh der tak padegi Nigahen Teri 💖
मुझे खुशनसीब है मेरे लिखे हुए यह लफ्ज़,
जिनको कुछ देर तक पड़ेगी निगाहें तेरी.




Tum Hote kaun ho,
mere na hone wale ?💖
तुम होते कौन हो,
मेरे ना होने वाले ?

[Read More Pyar Bhari Shayari→]


Desh Bhakti Shayari

🆃🅰🅱🅾🅾🆃…देशभक्ति शायरी

Siyasat Dekh laparvahi Ke Saboot Aate Hain,
Aulad bheji thi lautkar kyun taboot Aate Hain
सियासत देख लापरवाही के सबूत आते हैं,
औलाद भेजी थी, लौटकर क्यूँ ताबूत आते हैं

shayari
Desh Bhakti Shayari

Riwayat Si ban gai hai Desh Bhakti to Janab,
bus log tarikho per farz Ada Karte Hain
रिवायत सी बन गई है देश भक्ति तो जनाब,
बस लोग तारीखों पर फ़र्ज़ अदा करते हैं


Kya Banane Aaye The Kya bana Baithe,
Kahin Mandir banaa Baithe Kahin Masjid banaa Baithe,
Humse to Zaat acchi hai parindon ki
Kabhi Mandir per Ja Baithe To Kabhi Masjid per Ja Baithe
क्या बनाने आये थे क्या बना बैठे,
कहीं मंदिर बना बैठे कहीं मस्जिद बना बैठे,
हमसे तो ज़ात अच्छी है परिंदों की
कभी मंदिर पर जा बैठे तो कभी मस्जिद पर जा बैठे.




Khali pet wale jhande bech rahe hain,
aur bhare pet wale Mulk
खली पेट वाले झंडे बेच रहे हैं,
और भरे पेट वाले मुल्क

Leave a Reply